New hindi kahaniya with moral.

New hindi kahaniya with moral -बच्चे और students ke लिये :

Iss post में हे दो सबसे accha New hindi kahaniya with moral(हिंदी कहानियाँ नैतिक की साथ )।

1.भालू और दो मित्र(Bhalu aur do mitra ki kahani )
2.बंधुआ गधा(The bonded donkey):

ये दो New hindi kahaniya with moral आपके exam के लिये भी काममे आयेगा, तो जरूर पड़े।

1.भालू और दो मित्र ki story -kaise एक मित्र ने Bhalu से बचके निकला था?

Story :Bhalu aur do mitra (A bear and two friend)

Bhalu aur do mitra ki kahani hindi mai
➡️एक समय की बात है, दो मित्र स्कूल की छुट्टी मे जंगल मे घूमने जाने का फैसला किया था पिकनिक बनाने के लिए।

अगले ही दिन दोनों निकल गया था जंगलपुर नाम की एक जंगल मे पोंछने के लिए, ओर बहापे पिकनिक बनाने के लिए।

बहापे जाके दो मित्र ने जंगल में घूम raha tha. दोनों ही बहुत खुश tha इतने दिनों बाद दोनो घूमने आया है।

दो मित्र jungle मै जंगल की पेड़, पक्षी को देख रहा था, फिर दो मित्र देखा पास ही एक नदी मे बहुत sare मछली(fish) खेल रहा ये सब देखके बो दोनों बहुत खुश था।

इससे पहले कि बो  गहरी जंगल में enter करते, दोनों ने खतरे के समय में एक-दूसरे ko मदद करने का वादा किया।फिर बो गहरी जंगल में जाने लगा ।

थोड़ी देर के बाद, बो अप्रत्याशित रूप से एक बड़े भालू का सामना करता हैं।
do mitra aur bhalu(two friends and a bear) ki kahani hindi mai.
➡️दोनों ही बहुत डर गया था।
दो मित्र मे से एक ने अपना वादा भूल गया। वह अपने दोस्त की परवाह किए बिना एक पेड़ पर जल्दी चढ़ गया।

दूसरे को पता नहीं था  कि पेड़ पर कैसे चढ़ना है। अकेले भालू का सामना करना भी संभव नहीं था।

उसने एक पल के लिए सोचा, फिर उसको याद आया की "भालू मारे हुए आदमी को नहीं खाता है " फिर उन्होंने जमीन पर गिर पड़ा ओर उन्होंने एक मृत व्यक्ति की तरह सो गया ।

➡️फिर भालू उसके करीब आया।भालू उसे सूंघ गया और यह सोचकर चला गया कि वह मर चुका है।

भालू के चले जाने के बाद, पेड़ पर मौजूद मित्र ने नीचे आया और उसने साथी मित्र से पूछा, "भालू ने आपको क्या बताया?"

दूसरे मित्र ने कहा भालू बोला है की "एक दोस्त पर विश्वास मत करो जो आपको खतरे के समय में नीचे छोड़कर चला जाता है" ।

Bhalu aur do mitra (Two friend and a bear ) story ka moral :

बो ही सच्चे दोस्त होते है जो खतरे के समय साथ निभाते है।
Read more :
➡️➡️➡️

2.बंधुआ गधा(The bonded donkey) ki story hindi मे-gadha aur ek admi.

Story:बंधुआ गधा  (Bandhua gadha ):

➡️एक छोटे से गाँव में, Bhim नाम ka एक admi रहता था। उसके पास एक गधा था जिसको उसके एक दोस्त ने दिया tha।

उसका gadha उसको हर काम पे मदत करता tha. हर रोज Bhim उसका गधा के मदत से अपने घर से काफ़ी दूर की एक nadi से मिट्टी लेकर अपने घर आता था।
Bandhua gadha ki kahaniya
आदमी (man)
➡️उस mitti की मदत से वो एक घर बना raha tha. उसके घर से नदी  काफी दूर था।Ek दिन वो 2 बार नदी से अपने घर mitti ले गयी थी। जब तीसरी बार लेने आयी to वो बहुत थक चूकाथा।

इसलिए Bhim पास के ही एक पेड़ को निचे गधा को बांधके, वो भी उस पेड़ के नीचे विश्राम करेगा ऐसा सोच के पेड़ के निचे आया था ।
The bonded donkey (bandhua gadha ) ki kahaniya
Donkey(गधा )

➡️फिर उसने ,देखा की वो घर पे  रस्सी रखके आ गया है , जिसके मदत से वो गधा को बांधता था ।

उसका घर भी बहुत दूर था इसलिए घर पे जाना भी उसके लिए मुश्किल हो raha था, फिर उसने सोचा,
मैं आज इस गधे को कैसे बाँधूँ?
अगर मैं सोता हूं तो वह भाग सकता है।

“Bhim ने गधा का कानों को पकड़कर सोने का फैसला किया ताकि गधा भाग न जाए।

➡️लेकिन इस तरह न तो गधा को संभाल ना easy हो raha था और न ही Bhim शांति से आराम कर saktatha था। उस समय पास से गुजरने वाले एक संत ने  Bhim को गधे के कान पकड़ते हुए देखा।

तब संत ने जानना चाहा Bhim से की, केया समस्या है।तब Bhim ने संत को सारे बात बताया ,फिर ये सब sunne ke बाद बुद्धिमान संत थोड़ी देर कुछ सोचा ओर फिर bhim को कहा-
गधे को उस स्थान पर ले जाओ जहाँ तुम उसे रोज बाँधते थे ।
एक काल्पनिक रस्सी का उपयोग करके उसे बांधने का नाटक करें। मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि वह नहीं भागेगा ।

Bhim ने नेही करना chata था , फिर बहुत बोलने ke बाद ओर उसे बिस्बास दिलाने ke बाद "उसने वही किया जो संत ने कहा था।

➡️फिर संत ने bahase चला गया, ओर bhim भी गधा बहा छोड़कर पेड़ ke निचे सो गया। जब वह thodi देर बाद उठा,उसने आश्चर्य हो गया ,क्यूंकि उसने गधा को उसी स्थान पर खड़ा पाया जाहा उसने उसे छोड़ ke आया था।

फिर जल्द ही bhim घर जाने के लिए तैयार हो रहा था। लेकिन गधा नहीं हिला। bhim ने निराशा में कहा-
"इस गधे के क्या हो गया!" 

➡️बहुत कोशिश करने की बाद भी गधा नेही hila. Bhim ने उसके पीछे धक्का मरना सुरु kiya लेकिन गधा थोड़ासा jane के बाद फिर बही पे चला आया।

शाम hone बाला था फिर भी गधा अपने जगह से हिल ही नहीं रहाथा। Bhim का राग बढ़ने लगा था ओर वो गधा को ओर तेज़ीसे ठेलने लगा, फिर उसे मरने लगा लेकिन गधा अपने position से kahi nehi gaya.

फिर उसने एक admi ko देखा वो उस आदमी को बोला उसे help करने ke लिए। आदमी ने आया ओर उसे पूछा keya help चाइये।

फिर Bhim ने उसे सब बोला, फिर आदमी ने Bhim के साथ मिलके उसे ठेलना चालू किया।

लेकिन iss बार गधा जाने की बजह Bhim की मु मे लात मार दी ये सब देखके दूसरा आदमी ने भाग gaya। अब Bhim को ओर गुस्सा होने लगा था ।

➡️सौभाग्य से, Bhim ने बुद्धिमान संत को फिर से देखा । वह संत के पास दौर के गया और उसे गधा ka अजीब behaviour के बारे में बताया।

संत ने ये सब सुनके हँसा ओर फिर उन्हें कहा-
"आपने गधे को बांध दिया था , लेकिन क्या आपने उसे खोला था?"

Bhim ने बताया nehi.  फिर उसने संत से पूछा" कैसे खोलू, संत ने बताया -"जैसे उसे रस्सी से काल्पनिक रूप से बंधा था बैसे ही काल्पनिक तरीके खोलना होगा

संत का ये सलाह सुनके वो अपने गधा के पास आया ओर काल्पनिक तरीके से उसका रस्सी खोल दिया ।

➡️फिर वो उसे घर ले जाने के लिए कोसिस करा तो देखा गधा उसके साथ आ raha है।

Bhim ने बुद्धिमान संत को धन्यवाद दिया और उसको अपने घर आने को बोला। लेकिन संत ने बादमे आऊंगा बोलके चला गया।

फिर Bhim ने अपने गधा के साथ खुशी-खुशी घर आने लगा ओर सोचने लगा की keya गधा ही गधा हैं ya फिर…….।

The bonded donkey kahani से keya pata chalta hai? 

➡️✡️ये कहानी हमे एही बताते है की हमको all time दूसरे के ऊपर dependent hona ,nehi चायये हामको khudka दिमाग़ भी काम pe लगाना hoga.

Read more:
Agar apko ye do New hindi kahaniya with moral pasand aya है तो please 🙏🙏🙏इस post ko share kare. Aur ऐसा New hindi kahaniya with moral, पड़ने ke liye iss site ko jarur visit kare.


Post a Comment

Please do not enter any spam link and bad messages in the comment box.

नया पेज पुराने