fairy tales in hindi-Duckling ki story.

fairy tales in hindi-duckling ki kahaniya :

fairy tales in hindi-Duckling ki story एक latest post हे। ये fairy tales in hindi-Duckling ki story  एक  बदसूरत duckling के ऊपर लिखा गया हे।


बदसूरत बतख की कहानी (The ugly duckling) :

एक बार एक पुराने खेत पर , एक duck परिवार रहता था। और माँ duck नए अंडों के एक clutch पर बैठा था। एक दिन सुबहा  अंडे फटी और बाहर आया 6 chirpy ducklings। लेकिन एक अंडे बाकी अंडे से बड़ा था, और यह अभी भी नहीं फटा था।


मां duck उस सातवें अंडे को छोरके  नहीं जा सकता था। मा duck ने बोला -

यह अभी भी kiyu नेही फटा ?


Tock! Tock! छोटा कैदी अपने खोल के अंदर से pecking कर रहा था। । बदसूरत अंडा, मैं अंडे को गलती से ले आया था केया ? माँ Duckने सोचने लगा । 

fairy tales in hindi.
Ducklings

लेकिन इससे पहले कि उसके बारे में और सोचने लगे , आखिरी अंडा भी फूटा और  भूरे रंग के पंखों के साथ एक अजीब दिखने वाला एक duckling bahar aya, चिंतित मां duck ने बोला इसे तो पीला होना चाहिए था। 


डकलिंग जल्दी बढ़ी होने लगी , लेकिन mother duck के मन मे एक  चिंता रह गयी थी।

मैं समझ नहीं पा रहा हूं कि यह बदसूरत Duckling मेरा कैसे हो सकता है! उसने खुदको कहा।


खैर, भूरे रंग के Duck निश्चित रूप से सुंदर नहीं है।क्युकी उसने अपने भाइयों की तुलना में कहीं अधिक खाता था , तो वह जल्दी बढ़ा हो रहाथा। जैसे-जैसे दिन जाते रहा , खराब बदसूरत Duckling अधिक से अधिक दुखी होता रहा ।


 उनके सब भाई भी उसके साथ खेलने से मना करना सुरु कर दिया था , वह बहुत clumsy था , और खेत के सभी लोग भी उसको देखके उस पर हँसने लगा tha । वह बहुत उदास हो गया था और बहुत अकेला महसूस कर रहा था।


जबकि मां duck ने उसे console करने के लिए बहुत कोशिश किया था। है poor little ugly duckling ! उसने बोला, आप दूसरों से इतने अलग क्यों हैं?


और बदसूरत डकलिंग पहले से और ज्यादा दुख महसूस किया। वह छुप के से रात में रोता था । वह सोचता रहा  कि, कोई भी उसे नहीं चाहता है । 


Aur fairy tales in hindi पड़े :

कोई भी मुझसे प्यार नहीं करता, वे सब मुझे चिढ़ाते हैं! मैं अपने भाइयों से अलग क्यों हूँ?


फिर एक दिन, सूर्योदय होने ki बाद , वह खेत से दूर भाग गया। वह एक तालाब में रुक गया और अन्य सभी पक्षियों को  सवाल पूछना शुरू कर दिया-

क्या आप मेरे जैसा भूरे रंग ki किसी और duckling के बारे में जानते हो?


लेकिन हर किसी ने अपने सिर को तिरस्कार से  हिलाया। हम आपके जैसा कोई और बदसूरत ducklings को नहीं जानते हैं। 


बदसूरत बतख हर नेही मना , बो पूछताछ करना जारी रखा। वह एक और तालाब पर चला गया, जहां बड़े geese की एक जोड़ी ने उन्हें उसका प्रश्न का बोही जवाब दिया।


और क्या है, उन्होंने उसे चेतावनी दीया और bola -

यहां मत रहो! दूर जाओ! यह खतरनाक जगह है। यहां चारों ओर बंदूकें वाले पुरुष हैं!


डकलिंग को खेद था कि उसने खेत को छोड़ दिया था। फिर एक दिन, जाते जाते उसने एक old countrywoman  की कुटीर के पास चला गया।


उसने उसे पकड़ लिया, यह सोचकर कि वह भटक गया है।फिर बूढ़ी औरत ने कहा-

मैं इसे एक hutch में रखूंगा। मुझे उम्मीद है कि यह female है और बहुत सारे अंडे bhi देगा !


बूढ़ी औरत की दृष्टिसक्ति बहुत खराप था ।


 लेकिन बदसूरत duckling  ने एक bhi अंडा नहीं दिया। मुर्गी ने उसे डराया और bola -

Just wait ! यदि आप अंडे नहीं देते हो , तो बूढ़ी औरत आपके  गर्दन wring करेंगी, और आपको pot में pop karegi !


और बिल्ली ने बोला -

ही ! ही! मुझे उम्मीद है कि महिला आपको पकायेंगे और , फिर मैं आपके हड्डियों को खाऊंगा !


बदसूरत duckling  इतनी डर गये थी कि उसने अपनी भूख को खो दी थी। हालांकि बूढ़ी औरत ने उसे फिर bhi भोजन दिया था और बोला -

यदि आप अंडे नहीं दे sakte तो , कम से कम जल्दी खाओ और मोटा हो जाओ!


Oh, dear मे ! अब भयभीत डकलिंग रोने लगा । मैं अब, first, डर से ही  मर जाऊंगा! और मे ऐसा करूँगा तब सायद कोई मुझे प्यार करेगा!


फिर एक रात, hutch का दरवाजा खुला हुआ था , बदसूरत duckling ने देखा और bahase जल्दी वह भाग गया। 


एक बार फिर duckling, अकेला हो गया था। Duckling जितना हो सके उतना दूर भाग गया था, और सुबहमें जब वो उठा , तो उसने खुद को reeds  के मोटे बिस्तर में पाया।


उसने बोला -

"अगर कोई भी मुह्जे नहीं चाहता है, तो मैं यहां हमेशा के लिए छुपजाऊंगा। "


बहा बहुत सारे भोजन था , और duckling ने थोड़ा अच्छा महसूस कररहा था , हालांकि वह अकेला था। एक दिन सूर्योदय के समय , उसने सुंदर पक्षियों को उसकी ऊपर मे urti हुई देखि ।


सफेद, लंबे पतले गर्दन, पीले चोंच और बड़े पंखों के साथ, वे दक्षिण के और जा रहे थे।


अगर मैं केवल एक दिन के लिए bhi  उनके जैसा दिख सकता था! duckling ने कहा। शीतकाल आया और reed bed का पानी जम गया।


Duckling ने बर्फ में भोजन की तलाश करने के लिए घर को  छोड़ दिया। वह थक गया था और जमीन पर रुका था, लेकिन एक किसान ने उसे पाया और उसे अपनी जैकेट के बड़ी जेब में डाल दिया था ।


फिर किसान ने बोला -

मैं duckling को घरमे अपने बच्चों के पास ले जाऊंगा। बो इसकी  देखभाल karegi। खराप बात हे ki , वह जमे हुए हे !


Duckling को किसान के घर में शीतकाल मे अच्छेसे देखभाल करा गयाथा । इस तरह, बदसूरत duckling कड़वाहट ठंड सर्दी से बचने में सक्षम हुआ । 

badsurat batakh ki kahani
Swan

हालांकि, वसंत ऋतु तक , वह इतना बड़ा हो गया था कि किसान ने फैसला किया, "मैं उसे तालाब पे मुक्त कर दूंगा! "फिर एकदिन बो आश्चर्य हो गयाथा जब उसने खुद को पानी में अपने प्रतिबिंब को देखा।


Duckling ने बोला-

Goodness ! मैंने कैसे बदल गया ! मैं शायद ही कभी खुद को पहचान पाया था !


Swans ki पंखो की उड़ान फिर से उत्तर ki और जा रहाथा, फिर बो एक तालाब पर रुक गया था।


जब duckling ने उन्हें देखा, तो उसे एहसास हुआ कि वह bhi उनके  तरह ही था, और जल्द ही उसने उसके साथ दोस्ती करा ।


fairy tales in hindi-Duckling ki story पड़ने के बाद निचे दिए गये best post को भी पड़े 

Duckling ने गर्ब से कहाँ-

"मे आपके जैसे swans हु !


आप कहाँ पे थे ? यह एक लंबी कहानी है, युवा swan ने बोला। अब, वह अपने साथी swan के साथ महामहिम रूप से तैर ने लगा पानी मे ।


एक दिन, उसने नदी के किनारे के बच्चों को बोलते हुई सुना-

उस युवा swan को देखो! वह उनमें से सबसे बेहतरीन है!


और वह ये सुनके लगभग खुशी से फट गया था, और उसका सारी दुख भूल चूका था ।


➡️अगर upko ये fairy tales in hindi-Duckling ki story पसंद आया हे to please 🙏🙏इस post को share kare. Aisa fairy tales in hindi-Duckling ki story पड़ने के लिये इस site को जरूर visit kare.

Post a Comment

Please do not enter any spam link and bad messages in the comment box.

नया पेज पुराने